एनबीए सट्टेबाजी का अनुभव

एनबीए सट्टेबाजी का अनुभव

time:2021-10-23 12:17:21 वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड ईटीएफ में निवेश चार गुना बढ़ा Views:4591

ऑनलाइन स्लॉट लातविया एनबीए सट्टेबाजी का अनुभव 188bet सहयोगी,casumo जॉइन,लेवेगास स्वागत बोनस,lovebet खाता हटाएं,lovebet ऑनलाइन लॉगिन,lovebet.com मैच डु पत्रिकाएं,या शतरंज 8 4053 चौडफोंटेन,baccarat खेल उच्चारण,बैकारेट जीतने का तरीका,जीरो नेटफ्लिक्स पर दांव,कैसीनो ताज,कैसीनो x कोई जमा बोनस नहीं,कॉम क्रिकेट कप्तान,क्रिकेट ना,एस्पोर्ट्स अकादमी,एफए पोकर लीग,फुटबॉल लाभ और हानि सूचकांक,उत्पत्ति वैश्विक कैसीनो,यूरोपीय कप के लिए ऑनलाइन बेट कैसे लगाएं,आईपीएल रिकॉर्ड,जैकपॉट ज़िहंग,लाइव कैसीनो सट्टेबाजी यूआरएल,लॉटरी 5.7.2021,लकी खेल लॉटरी ऐप,एनबीए यू.एस. सट्टेबाजी अनुपात,ऑनलाइन ड्रैगन टाइगर गेम,ऑनलाइन पोकर या लाइव,परिमच न्यूनतम शर्त,पोकर किकर,रील मुक्त स्लॉट,नियम निसी अर्थ,रम्मी वाई बुराको रेगलस,स्लॉट मशीन ऑनलाइन,खेल आनंद,स्पोर्ट्सबुक उत्तर कैरोलिना,टेक्सास होल्डम पोकर ऑनलाइन,टीआरए फुटबॉल,बैकारेट वेबसाइट कहाँ है,याकूब 0 कैसीनो धोखा,ऑनलाइन कैसीनो भारत,क्रिकेट live,गोवा डे मटका जोड़ी चार्ट,तीन पत्ती अनलिमिटेड चिप्स,बकरा खस्सी करने का तरीका,बेताब घाटी,लॉटरी शपथ, .वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड ईटीएफ में निवेश चार गुना बढ़ा

लगातार दूसरा वित्त वर्ष रहा जब गोल्ड ईटीएफ में निवेश हुआ. इससे पहले 2013-14 से गोल्ड ईटीएफ से लगातार निकासी देखने को मिली थी.
नई दिल्ली: जोखिम बढ़ने और कोविड-19 महामारी के बीच अनिश्चितता के चलते निवेशकों के सोने का आकर्षण बढ़ा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,900 करोड़ रुपये डाले.

यह लगातार दूसरा वित्त वर्ष रहा जब गोल्ड ईटीएफ में निवेश हुआ. इससे पहले 2013-14 से गोल्ड ईटीएफ से लगातार निकासी देखने को मिली थी. म्यूचुअल फंडों की संस्था एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एम्फी) के आंकड़ों से यह जानकारी मिली है.

इसे भी पढ़ें: किसे सता रहा अमेरिका में महंगाई बढ़ने का डर?

माईवेल्थग्रोथ डॉट कॉम के सह-संस्थापक हर्षद चेतनवाला ने कहा कि इस बात की संभावना काफी कम है कि चालू वित्त वर्ष में भी गोल्ड ईटीएफ में निवेश का यह ट्रेंड जारी रहे. हालांकि, कोरोना की दूसरी लहर ने बाजार को डरा दिया है.

एम्फी के आंकड़ों के अनुसार हाल में समाप्त वित्त वर्ष में निवेशकों ने गोल्ड से जुड़े 14 ईटीएफ में शुद्ध रूप से 6,919 करोड़ रुपये का निवेश किया. यह 2019-20 में हुए 1,614 करोड़ रुपये के निवेश का चार गुना है.

इससे पहले 2018-19 में गोल्ड ईटीएफ से शुद्ध रूप से 412 करोड़ रुपये की निकासी हुई थी. 2017-18 में गोल्ड ईटीएफ से 835 करोड़ रुपये, 2016-17 में 775 करोड़ रुपये, 2015-16 में 903 करोड़ रुपये, 2014-15 में 1,475 करोड़ रुपये और 2013-14 में 2,293 करोड़ रुपये निकाले गए थे.

इसे भी पढ़ें: विदेशी निवेशकों ने अप्रैल में भारतीय बाजार से निकाले 929 करोड़ रुपये

हालांकि, साल 2012-13 के दौरान इस सेगमेंट में 1,414 करोड़ रुपये का निवेश हुआ था. बीते कुछ सालों से रिटेल निवेशकों ने बेहतर रिटर्न की चाहत में गोल्ड ईटीएफ की तुलना में इक्विटी बाजार में अधिक पैसा डाला है.

क्वांटम म्यूचुअल फंड के सीनियर फंड मैनेजर (ऑल्टरनेटिव इंवेस्टमेंट) चिराग मेहता ने कहा, "अधिक जोखिम और कोरोना वायरस के चलते बढ़ी अस्थिरता का असर इक्विटी जैसे जोखिम भरे एसेट्स को प्रभावित करेंगी. निवेशकों की दिलचस्पी गोल्ड जैसे सुरक्षित एसेट्स में बढ़ सकती है."




हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

गोल्ड ईटीएफक्वांटम म्यूचुअल फंडएम्फीशेयर बाजारईटीएफएक्सचेंज ट्रेडेड फंडमाईवेल्थग्रोथ डॉट कॉमकोरोना वायरस

ETPrime stories of the day

Havildar Tom Cruise? A case diary of Indian cops’ craze for artificial intelligence in policing
Artificial intelligence

Havildar Tom Cruise? A case diary of Indian cops’ craze for artificial intelligence in policing

11 mins read
Smarter, better, and now more affordable: AI is becoming omnipresent as it steps up its game
Artificial intelligence

Smarter, better, and now more affordable: AI is becoming omnipresent as it steps up its game

15 mins read
MedPlus has scale, Wellness Forever scores in product mix. Which IPO will get more investor love?
Investing

MedPlus has scale, Wellness Forever scores in product mix. Which IPO will get more investor love?

10 mins read

शेयरों में निवेश से जुड़े जोखिम के अलावा इंटरनेशनल फंड में निवेश से करेंसी का जोखिम भी जुड़ा होता है. दूसरे देश की मुद्रा के मुकाबले रुपये में कमजोरी और मजबूती का असर आपके रिटर्न पर पड़ता है.एनालिटिक्‍स संबंधी जॉब्‍स निकालने वाली कंपन‍ियों में एक्‍सेंचर, एमफेसिस, कग्निजेंट टेक्‍नोलॉजी सॉल्‍यूशन, केपजेमिनी, इंफोसिस, टेक महिंद्रा, आईबीएम इंडिया, डेल, एचसीएल टेक्‍नोलॉजी और कोलेबरा टेक्‍नोलॉजी प्रमुख हैं.एनपीएस में निवेश की उम्र सीमा बढ़कर हो सकती है 70 साल!

पेटीएम के सीएचआरओ रोहित ठाकुर ने ईटी को बताया कि पिछले तीन से चार महीनों में कंपनी ने करीब 700 लोगों की भर्ती की है. इन्‍हें ऑनलाइन रिक्रूट किया गया है.अधिकतर निवेशक इक्विटी फंड्स में निवेश करने के लिए सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (सिप) को तरजीह देते हैं. हाल के समय में सिप को बहुत अधिक लोकप्रियता मिली है.एनपीएस में निवेश की उम्र सीमा बढ़कर हो सकती है 70 साल!

कर्मचारियों की छंटनी की खबर ऐसे समय आई जब एक महीने पहले ही हरदयाल प्रसाद ने कंपनी में चीफ एग्‍जीक्‍यूटिव का पद संभाला है. उन्‍होंने अंतरिम प्रमुख नीरज व्‍यास की जगह ली है.जून में गिरावट के बाद पिछले दो महीनों में एक्टिव जॉब ओपनिंग्‍स में 74 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई है. कंपनियों को कोविड की महामारी खत्‍म होने के बाद प्रतिस्‍पर्धा बढ़ने की उम्‍मीद है. वे इसके लिए खुद को तैयार रखना चाहती हैं.बुजुर्गों को मिले ज्‍यादा ब्‍याज, एससीएसएस की लिमिट बढ़ाकर ₹50 लाख की जाए

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
सबा बैकरेट कैश नेटवर्क

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने बताया कि कोविड-19 महामारी के कारण अब तक परीक्षा आयोजित नहीं कराई जा सकी थी.

नवीनतम बेटिंग ऑफर

सितंबर में समाप्त तिमाही में कंपनी के कर्मचारियों की संख्या 2,40,208 थी. कंपनी अपने जूनियर कर्मचारियों को तीसरी तिमाही में एकबारगी विशेष प्रोत्साहन देगी.

कैटरीना समाचार

कोरोना वायरस महामारी के चलते लागू किए गए लॉकडाउन के कारण विभिन्न क्षेत्रों में छंटनी, वेतन में कटौती या कर्मचारियों के वेतन में बढ़ोतरी रुक गई है. हालांकि, कई बड़े निजी क्षेत्र के बैंकों ने कर्मचारियों के वेतन में बढ़ोतरी की है.

गोवा थीम

2020 के पहले छह महीनों में केपजेमिनी ने 9,500 लोगों की भर्ती की है. सेकेंड हाफ में उसकी 13,500 लोगों को रिक्रूट करने की योजना है.

lovebet ई गिरी

फ्रेंकलिन टेंपलटन के इंडियन मैनेजमेंट ने घरेलू कारोबार के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई थी.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी